Advertisements

Archive for June, 2018


आप अपने घर में #शिवलिंग स्थापित करने के बारे में सोच रहे हैं तो रखें कुछ बातों का ध्यान, फायदे में रहेंगे!
भगवन शिव के बारे में तो आप जानते ही हैं, वह बहुत ही दयालु भी हैं और क्रोधी स्वाभाव के भी हैं। जो उन्हें सच्चे मन से याद करता है, उसकी पुकार वह तुरंत सुन लेते हैं। अगर आपने भी अपने घर में #शिवलिंग स्थापित किया हुआ है या करने के बारे में सोच रहे हैं, तो कुछ बातों का ध्यान रखना बहुत ही जरुरी है। आप तो जानते ही हैं कि भगवन शिव जब क्रोधित हो जाते हैं, तो वह पूरी पृथ्वी का विनाश करने की क्षमता रखते हैं। ऐसे में कोई ऐसा काम ना करें या कोई ऐसी चीज चढ़ावे के रूप में ना चढ़ाएँ जो उन्हें पसंद ना हो। आज हम आपको कुछ ऐसी बातें बताने जा रहे हैं, जो शिवलिंग के साथ नहीं करनी चाहिए।

शिवलिंग के साथ ऐसा भूलकर भी ना करें…..

कोने में ना रखें:-

शिवलिंग अगर घर में स्थापित कर रहे हैं तो उसे भूलकर भी कोने में या किसी ऐसी जगह ना रखें जहाँ आप उसकी पूजा ना कर पायें। ऐसा करने से भगवन शिव क्रोधित हो जाते हैं, और उनके क्रोध से बचना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन होता है।

हल्दी ना चढ़ाएँ:-

जैसा की सभी जानते हैं हल्दी का इस्तेमाल औरतें अपनी खूबसूरती को बढ़ाने के लिए करती हैं। भगवान शिव को खुबसूरत दिखने की कोई इच्छा नहीं है, भगवन शिव एक पुरुष देवता हैं, इसलिए उन्हें हल्दी बिलकुल भी पसंद नहीं है। तो याद रखें उन्हें कभी भी हल्दी ना चढ़ाएँ।

सिंदूर के दूरी रखें:-

आप तो जानते ही हैं कि सिंदूर महिलाएँ लगाती हैं ताकि उनके पति की आयु लम्बी हो सके, और भगवन शिव विनाश के देवता हैं। इसलिए उन्हें सिंदूर बिलकुल भी पसंद नहीं है, तो इस बात का ध्यान रखें कि उन्हें भूलकर भी सिंदूर ना चढ़ाएँ।

स्थान ना बदलें:-

शिवलिंग का स्थान ना बदलें, अगर किन्ही विपरीत कारणों से ऐसा करना पड़ रहा है तो इस बात का ध्यान रखें की शिवलिंग को हटाने से पहले उसे गंगाजल और ठंढे दूध से स्नान करायें फिर उसकी जगह को बदलें। ऐसा ना करने से भगवन शिव क्रोधित हो जाते हैं।

बिना किसी बर्तन के दूध ना चढ़ाएँ:-

कुछ लोग होते हैं जो सोचते हैं कि सीधे दुकान से पैकेट वाला दूध ख़रीदा और चढ़ा दिया, ऐसा करने से बचना चाहिए। बिना किसी बर्तन के दूध कभी भी नहीं चढ़ाना चाहिए। दूध चढ़ाते वक़्त एक बात का और ध्यान रखें दूध बिलकुल ठंढा होना चाहिए, भले ही बाहर कोई भी मौसम हो।

शिवलिंग की बनावट का रखें ध्यान:-

शिवलिंग स्थापित करने से पहले इस बात का अवश्य ध्यान रखें कि शिवलिंग सोने, चाँदी या पीतल का बना होना चाहिए। एक बात और ध्यान रखनी चाहिए कि बिना साँप वाला शिवलिंग भूलकर भी घर नहीं लाना चाहिए।

पानी का रखें ख़ास ध्यान:-

आप जब भी किसी शिव मंदिर में जाते होंगे तो आपने देखा होगा कि शिवलिंग के ऊपर एक पानी से भरा पात्र लटका रहता है, जिससे हर समय पानी टपकता रहता है। इसलिए जब आप भी अपने घर पर शिवलिंग स्थापित करें तो पानी की व्यवस्था ठीक तरह से करें। दिन हो या रात हो हर समय शिवलिंग के ऊपर पानी गिरना चाहिए।

शिवलिंग को अकेले ना रखें:-

जब आप अपने घर पर शिवलिंग स्थापित कर रहे हों तो इस बात का खासतौर पर ध्यान रखें कि शिवलिंग को कभी भी अकेले ना रखें। इसके साथ माँ पार्वती और गणेश की मूर्तियाँ भी रखें।

चन्दन का टिका लगायें:-

हर रोज स्नान करने के बाद शिवलिंग पर चन्दन का टिका लगायें, ऐसा माना जाता है कि इससे शिवलिंग पवित्र और ठंढा रहता है।

कभी ना चढ़ाएँ नारियल पानी:-

आपको इस बात का हमेशा ध्यान रखना होगा कि शिवलिंग पर कभी भी नारियल पानी नहीं चढ़ाना है। ऐसा करने से भगवान शिव क्रोधित हो सकते हैं। हालांकि आप इसकी जगह पर कच्चा नारियल चढ़ा सकते हैं।

कभी न चढ़ाएँ तुलसी की पत्ती:-

शिवलिंग पर भूलकर भी तुलसी की पत्तियाँ नहीं चढ़ानी चाहिए, शिवलिंग पर हमेशा बेलपत्र ही चढ़ाना चाहिए। बेलपत्र बहुत ही शुभ माना जाता है।

बेल चढ़ाएँ:-

बेल भगवन शिव को बहुत पसंद है, ऐसा माना जाता है कि यह फल चढ़ाने से इंसान की उम्र लम्बी होती है। इसलिए आप भी सुबह स्नान करने के बाद बेल के फल को भगवन शिव को चढ़ा सकते हैं, इससे आपकी उम्र और लम्बी हो जाएगी।

पंचामृत चढ़ाएँ:-

कोई भी पूजा शुरू करने से पहले शिवलिंग पर पंचामृत चढ़ाएँ। पंचामृत दूध, गंगाजल और चीनी जैसे पाँच चीजों से मिलाकर बनाया जाता है।

केवल सफ़ेद फूल चढ़ाएँ:-

जब बात फूलों की हो तो हमेशा शिवलिंग पर सफ़ेद फूल ही चढ़ाने चाहिए, यह कहा जाता है कि सफ़ेद फूल भगवान शिव को बहुत ज्यादा पसंद हैं। यह भी कहा जाता है कि भगवन शिव को भूलकर भी केवड़ा और चंपा के फूल नहीं चढ़ाने चाहिए। ऐसा माना जाता है कि इन फूलों को भगवन शिव ने अभिशाप दिया था।

अभिषेक:-

जब भी शिवलिंग का अभिषेक करें इस बात का ध्यान रखें कि हमेशा शिवलिंग का अभिषेक चाँदी, सोने या पीतल से बने नाग योनी जैसे किसी पात्र में करना चाहिए। अभिषेक करते समय इस बात का भी ध्यान रखें की अभिषेक कभी भी स्टील के स्टैंड में नहीं करना चाहिए।

शिवलिंग पर चढ़ाया कभी ना खाएं:-

यह कहा जाता है कि जो भी शिवलिंग पर चढ़ाएँ उसे खुद कभी भी ना खाएं, हमेशा शिवलिंग पर चढ़ाया हुआ दूसरों को बाँट देना चाहिए। जो शिवलिंग पर चढ़ाये हुए को खुद ही खा लेते हैं, ऐसा माना जाता है कि उनका भाग्य बुरा हो जाता है।

सौन्दर्य की कोई भी वस्तु ना चढ़ाएँ:-

सिंदूर की तरह ही भूलकर कोई भी सौन्दर्य प्रसाधन की वस्तु को शिवलिंग पर नहीं चढ़ाना चाहिए। ऐसी चीजें केवल आप माँ पार्वती की मूर्ति पर चढ़ा सकते हैं।

!!ॐ नम: शिवाय!!

Advertisements

CAREER GROWTH for Number 9:

For all those born on 9, 18, 27 are all Number 9 and associated with Planet Mars (Mangal).

Mars is a warrior and has a courage and willpower. Person with No 9 is action oriented, energetic, and ambitious and always ready to accept challenges. They are the most aggressive of all the numbers and do whatever it takes to accomplish the work. Harmony does not exist in them. Risk taking is a way of life for them. Competitors don’t usually stand a chance in front of them. Nothing can deter from the success but themselves. They have the grit to struggle & succeed. Having right name number, nothing can come in their way to success.

Profession best Suited for No 9: See attached image.

Enhance Saturn: Details on attached image.

If you wish to have growth in your career then there are many remedies one needs to follow; here are the few simple remedies one can follow.

IMPORTANT NOTE: If you are number 9 and not having good career options or growth then it is time you consult Numerologist. Please do note that remedies works best if Name number is best aligned with your date of birth.

Career Growth for Number 9 By Mystic Solutions

==========================================================================

Comments are most welcome. If you need any specific help then do post question(s) and we will do our level best to address in upcoming post(s).

Rohitt Shah (Vastu Acharya – Numero Vastu Guru)

Mahavastu, Numerology, iBazi and Lal Kitab Consultant

Our Online presences and links to follow US

Vastu NOTE: One need to ensure that they locate the direction accurately for tips to work. We work on 16 zones (directions) so make sure you plot the direction accurately.

16 Zones (directions): North, North of NE, North-East(NE), East of NE East, East of SE, South-East (SE), South of SE, South, South of SW, South-West (SW), West of SW, West, West of NW, North-West (NW), North of NW. Each zone carries its own attributes, colours, patterns and associations with 5 elements (Water, wood, Fire, Earth and Space).

Other Useful Numero Tips /articles:

Numerology Tip:

Numerology Tip: Born from year 2000 onwards; You must Read

Numerology Tip: Your Birthdate and Numerology

Numerology Tip: What is Numerology

Numerology Tip: What Number says about your Profession!!!

Numerology Tip: What Number says about you!!!

Numerology: Will name change benefit the movie #Padmaavat?

Numerology: Number 18 and its Impact

Testimoney – Numerology and Vastu Consultation

Disclaimer

*विष्णु सहस्रनाम मंत्र और इसके लाभ*

नुमेरोलॉजि में अंक 5 की सबसे बड़ा रेमेडी है। Remedy for number 5 in Numerology. Mercury Remedy. Ank 5 aisa number jo baki sub number se friend he or iska strong hone se baki anko se bhi fayda milta he।

Must Mantra for all those who has number 5 missing in their birthdate.

विष्णु सहस्रनाम एक ऐसा मंत्र है जिसमें विष्णु के हजार नामों का सम्मिश्रण है अर्थात अगर कोई व्यक्ति भगवान विष्णु के हजार नामों का जाप नहीं कर सकता है तो वह इस एक मंत्र का जाप कर सकता है। इस एक मंत्र में अथाह शक्ति छिपी हुई है जो कलयुग में सभी परेशानियों को दूर करने में सहायक है।

*विष्णु सहस्रनाम स्त्रोत्र मंत्र :-*

नमो स्तवन अनंताय सहस्त्र मूर्तये, सहस्त्रपादाक्षि शिरोरु बाहवे।
सहस्त्र नाम्ने पुरुषाय शाश्वते, सहस्त्रकोटि युग धारिणे नमः।।

★★★★★★★★★★★★★★★★★

*शैव और वैष्णवों के मध्य यह सेतु का कार्य करता है ये मंत्र :-*

इस मंत्र की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि हिन्दू धर्म के दो प्रमुख सम्प्रदाय शैव और वैष्णवों के मध्य यह सेतु का कार्य करता है।

*विष्णु सहस्रनाम में विष्णु को शम्भु, शिव, ईशान और रुद्र के नाम से सम्बोधित किया है, जो इस तथ्य को प्रतिपादित करता है कि शिव और विष्णु एक ही है।* विष्णु सहस्रानम में प्रत्येक नाम के एक सौ अर्थ से कम नहीं हैं, इसलिए यह एक बहुत प्रकांड और शक्तिशाली मंत्र है, शंकराचार्य और पारसर भट्ट जैसे प्रसिद्ध व्यक्तित्व ने इस पवित्र पाठ पर टिप्पणियां लिखी हैं।

*विष्णु सहस्रनाम उद्ग्म स्रोत :-*

विष्णु सहस्रनम की उत्पत्ति महाकाव्य महाभारत से मानी जाती है, जब पितामह भीष्म, पांडवों से घिरे मौत के बिस्तर पर अपनी मृत्यु का इंतजार कर रहे थे, उस समय युधिष्ठिर ने उनसे पूछा, “पितामह! कृपया हमें बताएं कि सभी के लिए सर्वोच्च आश्रय कौन है? जिससे व्यक्ति को शांति प्राप्त हो सके, वह नाम कोनसा है जिससे इस भवसागर से मुक्ति प्राप्त हो सके, इस सवाल के जबाब में भीष्म ने कहा की वह नाम विष्णु सहस्रनाम है ।

*ज्योतिषीय लाभ :-*

यह नकारात्मक ज्योतिषीय प्रभावों को वश में करने में मदद करता है, इनमें उन दोषों को शामिल किया जाता है जो जन्म समय की ग्रहों की खराब स्थिति से उत्पन्न होते हैं, विष्णु सहस्त्रनाम बुरी किस्मत और श्राप से दूर कर सकता है।

*अच्छा भाग्य और तकदीर:-*

जो व्यक्ति विष्णु सहस्त्रनाम का जाप करता है उसका भाग्य हमेशा उसका साथ देता है।

*मनोवैज्ञानिक फायदे :-*

इसका मनोवैज्ञानिक लाभ भी है , दैनिक विष्णु सहस्रनाम का जप करते हुए मन को काफी आराम मिलता हैं और अवांछित चिंताओं और विचलित विचारों से मुक्ति मिलती है, इससे मन में सकारात्मक पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करने और कुशलता सीखने को मिलती है।

*बाधाएं दूर होती हैं :-*

विष्णु सहस्त्रनामम अपने जीवन में बाधाओं को दूर करने का अंतिम उपाय है, यह आपके जीवन में मौजूद महत्वपूर्ण योजनाओं को तेज़ी से और आपके रास्ते पर बाधाओं और चुनौतियों को दूर करने में मदद कर सकता है, बढ़ती ऊर्जा स्तर और आत्मविश्वास के साथ, आप अपने जीवन के लक्ष्यों की ओर जल्दी और ऊर्जावान रूप से आगे बढ़ सकते हो ।

*रक्षात्मक कवच*

भगवान विष्णु का नाम दुर्भाग्य, खतरों, काला जादू, दुर्घटनाओं और बुरी नज़रों से व्यक्ति की रक्षा करने के लिए एक बहुत शक्तिशाली कवच की तरह कार्य करता है और दुश्मनों की बुरी योजनाओं से मन और शरीर की सुरक्षा करता है।

*पापों को मिटाना*

यह शक्तिशाली मंत्र एक व्यक्ति को अपने सारे जन्मों में अपने सभी पापों को मुक्त करने में सहायता कर सकता है।

*सन्तति देता है :-*

विष्णु के हजारों नामों का जप करने से बांझपन को दूर करने और परिवार में संतान प्राप्त करने में मदद मिल सकती है। यह घर में बच्चों के स्वास्थ्य और खुशी को बढ़ाता है और उनके समग्र कल्याण को बढ़ावा देता है।

Career Growth for Number 8:

For all those born on 8, 17, 26 are all Number 8 and associated with Planet Saturn (Shani).

This number is both Spiritual and Material. No 8 people are often seen as one who does Justice. They are very good at knowing what is Good and Bad. Indicates good endurance and staying power making the person solid functioning, which puts in the extra effort to make things right, follows ethnicity, and pursue the Ethics and abide with them. They face more challenges in life than any other numbers; so they continue to work hard whole their life. If they really put in hard work then results achieved by them are unmatched.

Profession best Suited for No 8: See attached image.

Enhance Saturn: Details on attached image.

If you wish to have growth in your career then there are many remedies one needs to follow; here are the few simple remedies one can follow.

IMPORTANT NOTE: If you are number 8 and not having good career options or growth then it is time you consult Numerologist. Please do note that remedies works best if Name number is best aligned with your date of birth.

Career Growth for Number 8 By Mystic Solutions

 

==========================================================================

Comments are most welcome. If you need any specific help then do post question(s) and we will do our level best to address in upcoming post(s).

Rohitt Shah (Vastu Acharya – Numero Vastu Guru)

Mahavastu, Numerology, iBazi and Lal Kitab Consultant

Our Online presences and links to follow US

Vastu NOTE: One need to ensure that they locate the direction accurately for tips to work. We work on 16 zones (directions) so make sure you plot the direction accurately.

16 Zones (directions): North, North of NE, North-East(NE), East of NE East, East of SE, South-East (SE), South of SE, South, South of SW, South-West (SW), West of SW, West, West of NW, North-West (NW), North of NW. Each zone carries its own attributes, colours, patterns and associations with 5 elements (Water, wood, Fire, Earth and Space).

Other Useful Numero Tips /articles:

Numerology Tip: 

Numerology Tip: Born from year 2000 onwards; You must Read

Numerology Tip: Your Birthdate and Numerology

Numerology Tip: What is Numerology

Numerology Tip: What Number says about your Profession!!!

Numerology Tip: What Number says about you!!!

Numerology: Will name change benefit the movie #Padmaavat?

Numerology: Number 18 and its Impact

Testimoney – Numerology and Vastu Consultation

 

 

Disclaimer

 

CAREER GROWTH for Number 7:

For all those born on 7, 16, 25 are all Number 7 and associated with Planet Ketu (Neptune).

No 7 people are seeker of the Ultimate Truth, more spiritual. Do not take things on its face value but will do their own analysis. They avoid social gatherings and like to be in their own cocoon. They do not run after money but their knowledge and spiritual enlightenment will take care of their financial needs.

Profession best Suited for No 7: See attached image.

Enhance Ketu: Details on attached image.

If you wish to have growth in your career then there are many remedies one needs to follow; here are the few simple remedies one can follow.

IMPORTANT NOTE: If you are number 7 and not having good career options or growth then it is time you consult Numerologist. Please do note that remedies works best if Name number is best aligned with your date of birth.

Career Growth for Number 7_Page_1

 

==========================================================================

Comments are most welcome. If you need any specific help then do post question(s) and we will do our level best to address in upcoming post(s).

Rohitt Shah (Vastu Acharya – Numero Vastu Guru)

Mahavastu, Numerology, iBazi and Lal Kitab Consultant

Our Online presences and links to follow US

Vastu NOTE: One need to ensure that they locate the direction accurately for tips to work. We work on 16 zones (directions) so make sure you plot the direction accurately.

16 Zones (directions): North, North of NE, North-East(NE), East of NE East, East of SE, South-East (SE), South of SE, South, South of SW, South-West (SW), West of SW, West, West of NW, North-West (NW), North of NW. Each zone carries its own attributes, colours, patterns and associations with 5 elements (Water, wood, Fire, Earth and Space).

Other Useful Numero Tips /articles:

Numerology Tip: 

Numerology Tip: Born from year 2000 onwards; You must Read

Numerology Tip: Your Birthdate and Numerology

Numerology Tip: What is Numerology

Numerology Tip: What Number says about your Profession!!!

Numerology Tip: What Number says about you!!!

Numerology: Will name change benefit the movie #Padmaavat?

Numerology: Number 18 and its Impact

Testimoney – Numerology and Vastu Consultation

 

 

Disclaimer

 

%d bloggers like this: