Advertisements

Category: Astrology


नवग्रह अरिष्ट शांति का जैनागम में शास्त्रोक्त उपाय

=========================== *Source Unknown*============================

 1……...सूर्य  ग्रह सिंह राशि का स्वामी है, यह दशम स्थान में शुभ फलदायी, आत्माकारक तथा पितृकारक

होता है। इसकी अशुभता से जातक आलसी, भयालु पितृ वैरी होता है। नौकरी व व्यवसाय में बार-बार

विघ्न आते हैं। व्यापारिक कार्यों में असफलता मिलती है, जातक राजकीय प्रकोप का भाजन बनता

है, कोर्ट कचहरी, विवाद, पितृ दोष, हृदय रोग, उदर विकार, ऋण (कर्जा) , झूठे अभियोग, प्रतिष्ठा

हानि, अल्सर, पित्त आदि होता हैं। आत्म विश्वास कम रहता है, मन पाप कार्यों में अधिक प्रवृत्त होता

है, गृहस्थ जीवन कलहपूर्ण व संतान सुख से हीन बनता है, इत्यादि सूर्य ग्रह के अरिष्ट प्रभाव होने पर उसकी शांति हेतु प्रतिदिन श्री पद्मप्रभु चालीसा, श्री नवग्रह शांति चालीसा करें एवं वर्ष में कम से कम एक

बार श्री नवग्रह शांति विधान कर जीवन का उत्थान अवश्य करें।

2…..…...चंद्रमा ग्रह  कर्क राशि का स्वामी है। यह चतुर्थ स्थान, माता, भूमि-भवन, वाहन, वाणी, सुख का

प्रमुख कारण होता है, चन्द्र की शुभता उपरोक्त विषयों की अनुकूलता प्रदान करती है और यदि

माता, भूमि-भवन, वाहन सुख का अभाव हो, वाणी में कर्कशता हो, मानसिक तनाव, फेफड़े का रोग,

चिंता, दुर्बलता, धन की कमी, हृदय का रोग, जलोदर रोग, रक्ताल्पता, रक्त प्रकोप, हाय-ब्लडप्रेशर आदि

की संभावना हो, मन में बुरे विचार आते हों, आत्महत्या की भावनायें बनती हों, विद्यार्जन, उच्च

पद प्राप्ति में निरंतर असफलता मिलती हो तो चंद्र की प्रतिकूलता का प्रभाव है, इन समस्याओं का

एकमात्र समाधान श्री चंद्रप्रभु चालीसा, श्री नवग्रह शांति चालीसा व नवग्रह शांति विधान से

हो सकता है।

3……….मंगल ग्रह मेष और वृश्चिक राशि का स्वामी है और ग्रहों में सेनापति है, दशम स्थान का कारक है।

इसके शुभ होने पर उच्च राजयोग बनता है, जातक में नेतृत्व क्षमता आती है। इसकी प्रतिकूलता होने पर

जीवन में पदोन्नति में बाधायें आती हैं और घर में आग लगना, लड़ाई-झगड़ा, अनावश्यक कोर्ट कचहरी के

झगड़ों में उलझना, मकान में वास्तु दोष, पराक्रम का अभाव, अतिरिक्त मांसपेशियों के रोग, तीव्र ज्वर,

विषम ज्वर, बार-बार एक्सीडेंट, रक्त विकार, फोड़े- फुँसी, होठ फटना, भौतिक विषयों के प्रति तीव्र

लालसा होती है। उपरोक्त मंगल के अरिष्ट शांति हेतु श्री वासुपूज्य भगवान का चालीसा करें। श्री नवग्रह

शांति चालीसा एवं श्री नवग्रह शांति विधान करके अपना सौभाग्य जगायें।

 4………बुध ग्रह मिथुन व कन्या राशि का स्वामी है इसकी अनुकूलता होने पर जातक की वाणी में

सरस्वती का वास होता है। बुध वाणी, विद्या, बुध्दि, व्यापार और धन का कारक ग्रह माना गया है।

इसकी प्रतिकूलता होने पर व्यापार में परेशानी, धन हानि, बुध्दि विभ्रम, ब्लड कैंसर, चर्म कैंसर, कुष्ठरोग,

वाणी के कारण झगड़े आदि होते है। जिन्हें उपरोक्त अरिष्ट हो वे तथा बुध्दि जीवी, कवि, लेखक,

वास्तुविद्, प्रवचनकार, ज्योतिषी, वैद्य, डाँक्टर, साधु-संत, दार्शनिक आदि लोग बुध ग्रह की अरिष्ट

शांति हेतु एवं बुध ग्रह को प्रबल बनाने के लिए श्री शांतिनाथ भगवान का चालीसा करें। श्री नवग्रह

शांति चालीसा करें। श्री नवग्रह शांति चालीसा एवं श्री नवग्रह शांति विधान के माध्यम से जीवन

की सर्वांगीण भाग्योन्नति संभव है।

5………गुरू ग्रह धनु और मीन राशि का स्वामी है। यह दूसरे, पाँचवें व नववें भाव का विशेष कारक होता है।

विद्या, विवाह, धार्मिक भावना एवं अध्यात्म का प्रमुख कारक है। इसकी प्रतिकूलता होने पर उच्च

शिक्षा में व्यवधान आता है। आध्यात्मिक और नैतिक भावनाऐं कम होती हैं, विवाह संबंध में परेशानी,

संतान हानि, गले में खराबी, बुध्दि भ्रम इत्यादि गुरू ग्रह संबंधी अरिष्ट शांति हेतु भगवान श्री आदिनाथ

जी का चालीसा, श्री नवग्रह शांति चालीसा एवं श्री नवग्रह शांति विधान ही उत्तम उपाय है।

6……….शुक्र ग्रह वृषभ और तुला राशि का स्वामी है। यह संगीत, नृत्य, अभिनय, लेखन, गायन, चित्रकला

आदि का मुख्य कारक है। यदि लग्नेश शुक्र भाग्य भवन में बैठ जायें तो जातक को उच्च धर्माधिकारी

बनाता है और इसकी प्रतिकूलता तंबाखु, सिगरेट, शराब आदि व्यसनों के आधीन बनाती है। गुर्दा रोग,

जलोदर, गुप्त रोग, नजला-जुकाम, कंठ रोग, खुशी में गम आना, प्रोस्टेट कैंसर आदि शुक्र ग्रह की

प्रतिकूलता से होते हैं। उपरोक्त प्रतिकूलताओं से बचने के लिए श्री पुष्पदंत भगवान का चालीसा पाठ करें।

श्री नवग्रह शांति चालीसा व नवग्रह शांति विधान करके भाग्य को समुन्नत बनायें व कला कौशल बनें।

7……..शनि ग्रह मकर और कुंभ राशि का स्वामी है, शनि अध्यात्म का मुख्य कारक है। यह अनुकूल होने पर

जातक को दीर्घायु देकर मालामाल कर देता है। अनुकूलता में धन आदि सुख छप्पर फाड़ के देता है और

प्रतिकूल होने पर कपड़े भी उतार देता है। अर्थात इसकी अनुकूलता करोड़पति और प्रतिकूलता रोडपति

बना देती है। अग्निकाण्ड, दुर्घटना, अयोग्य संतान, शरीर के निचले भाग में रोग, पैर-तलवे स्नायु संबंधी

पीड़ा, हड्डी टूटना, धीमी गति से कार्य होना, कार्यों में रुकावटें आना इत्यादि शनि के अरिष्ट

शांति हेतु श्री मुनिसुव्रतनाथ भगवान का चालीसा करें। श्री नवग्रह शांति चालीसा व श्री नवग्रह शांति विधान से अपना सर्वांगीण विकास करें।

8……..राहू ग्रह कन्या राशि का स्वामी माना गया है। इसकी अनुकूलता में अकस्मात धन प्राप्ति के

योग बनते हैं। लाटरी खुलना, पूर्वजों की वसीयत प्राप्त होना आदि अचानक धन लाभ राहू ग्रह

कराता है और प्रतिकूल होने पर जातक को जुआँ, सट्टा, रिश्वतखोरी, चोरी, डकैती, तस्करी आदि के

माध्यम से राजकोप का भाजन बनाता है। इसकी तीव्र प्रतिकूलता फांसी के फन्दे तक ले जाती है।

सिर पर चोट, गैस्टिक, विचारों में अस्थिरता, मधुमेह (डायबिटीज), हृदय रोग, लम्बी बीमारी आदि राहू

की प्रतिकूलता के लक्षण हो सकते हैं। इसकी अरिष्ट शांति हेतु प्रतिदिन नेमिनाथ भगवान का चालीसा

करें। कुंडली में ग्रहण योग, पाप कर्तरी योग, कालसर्प योग होने पर प्रतिदिन श्री नवग्रह शांति चालीसा

करें एवं प्रतिमास श्री नवग्रह शांति विधान से समस्त पापों का नाश करें।

9……..केतु ग्रह मीन राशि का अधिपति माना गया है। यह जिस ग्रह के साथ बैठता है उसकी ही

प्रतिकूलता या अनुकूलता को बढ़ाता है। इसकी प्रतिकूलता से जातक के साथ बार-बार विश्वासघात

होता है। मूत्र विकार, पुत्र पर संकट, अचानक परेशानी, पुत्र द्वारा दुर्व्यवहार, कारागृह, यकृत

(लीवर) सम्बंधी रोग, हाथ-पैरों में सूजन, बावासीर आदि केतु ग्रह की प्रतिकूलता से होते हैं। इसकी

अरिष्ट शांति हेतु श्री पार्श्वनाथ भगवान का चालीसा करें और कालसर्प योग होने पर श्री नवग्रह

शांति चालीसा एवं प्रतिमास श्री नवग्रह शांति विधान से समस्त दुःखों का निदान करें।……….

रोहित शाह (Rohitt Shah)

Vastu Acharya & Master Numerologists

9049410786

7776034447

www.iBlogsAbout.com

www.MysticSolutions.com à www.MantraTantraYantras.com

External Sources:  http://www.jinvanisangrah.com/category

http://www.jinvanisangrah.com/category/%E0%A4%9A%E0%A4%BE%E0%A4%B2%E0%A5%80%E0%A4%B8%E0%A4%BE-%E0%A4%B8%E0%A4%82%E0%A4%97%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%B9-chalisa-sangrah/

http://www.jinvanisangrah.com/category/%E0%A4%A8%E0%A5%88%E0%A4%AE%E0%A4%BF%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%A4%E0%A4%BF%E0%A4%95-%E0%A4%AA%E0%A5%82%E0%A4%9C%E0%A4%BE%E0%A4%8F%E0%A4%81-naimittik-poojayen/%E0%A4%A8%E0%A4%B5%E0%A4%97%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%B9-%E0%A4%B6%E0%A4%BE%E0%A4%82%E0%A4%A4%E0%A4%BF-%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%A4%E0%A5%8B%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%B0-%E0%A4%B9%E0%A4%BF%E0%A4%82/

http://jainpuja.com/jain-puja/navgrah-karak-mantra.aspx

https://jainsquare.wordpress.com/2012/04/04/navgrah-shanti-ke-jain-mantra/

Navgrah Jain Mantras

Document Version in PDF Format:

NAV Graha Mantra in Hindi and English

Advertisements

We all know when Shani is malefic one get into all sorts of problems be financial or health. Here are the powerful remedies to reduce Shanis bad effect.

1. Before going to bed, make sure to brush your teeth. This leela Shani happy.

2. Wear ring made of Horseshoe in middle finger of right hand. Make sure ring should be abhimantrit done at Hanumanji or Shani temple.

3. Jap one mala of Shani beej mantra every Saturday.

4. Recite Hanuman Chalisa every day two times. Morning and evening.

5.Burying Surma in the ground will benefit in service or business.

6. Serving or feeding Monkey/Black dog or cow will lead to prosperity.

7.Offering Sweet milk to the roots of Banyan tree will help in education and health.

8. Apply Tilak of curd or milk on forehead.

9. Keep square silver piece in pocket or purse.

10. Avoid meat and alcohol, especially on Tuesday and Saturday.

Try these remedies and see the positive results. Share your experience.

As usual, on all our post Disclaimer policy applies.

We have designed adjustable Ring and Pendant of genuine Citrin stone @CitrinGemstone. Get at the best price. For further query please drop me a message or email me.

Citrine Uses and Purposes – Overview

(Courtesy: Crystalvaults.com)

Called The Merchant’s Stone for its properties of increase in the cashbox, sparkling yellow Citrine not only assists in acquiring wealth, but helps in maintaining it. [Melody, 209] It is a stone of abundance and manifestation, attracting wealth and prosperity, success and all things good. It also encourages generosity and sharing good fortune. [Hall, 118] Citrine assists in all fast money ventures, and is especially helpful in financial speculation and for commercial success. Carry one in the purse or wallet to attract money and stop excessive outflow. [Eason, 44]

As a professional support stone, Citrine improves interactions for all who work in sales, merchant banking, casinos, sports and fitness instruction, and the media. It is a fortifying crystal for medical personnel and healers, and increases productivity in governmental work. [Mella, 131-132][Eason, 89] Citrine strengthens the inner light and sparks creativity and imagination. It is ideal for artists of all kinds. [Megemont, 59-60]

Citrine is an excellent crystal for interpersonal relationships. It smooths family or group problems, and promotes solutions and cohesiveness.[Melody, 210] It also helps in understanding and dealing with absorbed impressions from those around us. [Gienger, 28]

Carrying a Citrine attracts love and happiness, and guards against those who would break your heart. It is also an effective shield against spite and jealousy. [Eason, 89]

The gift of a Citrine angel or sphere to a newborn brings intelligence, health, happiness, curiosity, confidence, and healing wisdom. [Eason, 89]

Natural Citrine tumblestones, placed where light catches them, clears unfriendly ghosts from an area. Sprinkle a Citrine elixir weekly to prevent the negative energies from returning. [Eason, 89]

Place in the wealth corner of your home or business, or in the cash box. Citrine fades in sunlight. [Hall, 119]

Not many people know about Lal Kitab, but for people who are into Mystic consultations knows about this and many practices.

Lal Kitab known for speedy results providing right consultation is given.

One of the Fact about Lal Kitab is that there are two types of GRAH for each individual

  1. RASHI PHAL Grah – This is the GRAH associated with the day person is born on. So for someone born on Sunday will have SURYA (SUN) as their Rashi Phal GRAH.
  2. GRAH PHAL Grah –  This is the GRAH associated with the time person is born on. So someone born between say 10 AM to 11 AM will have CHANDRA (Moon) as their GRAH Phal Grah.

Now the interesting fact is that there are remedies done for RASHI Phal GRAH will bring results but remedies done for GRAH Phal Grah will have no results.  GRAH Phal GRAH is associated with your KARMA and one has to bear the fruit of KRAMAS. So if someone gives you remedies for CHANDRA (Moon) in this example will have no effect.

If you wish to know your RASHI PHAL and GRAH PHAL GRAH then drop me an email.

For all your Mystic Needs – visit www.MantraTantraYantras.com  

Today is the auspicious day of Hanuman Jayanti which brings great prosperity and health to all. Here is small write up on this years Hanuman Jayanti and how one can benefit with Poojas.

11 अप्रेल को दुर्लभ एवं सिद्धिदायक योग, बजरंगबली पूर्ण करेंगे आपकी मनोकामना, करें ये उपाय

रामनवमी की ही तरह इस बार हनुमान जयंती पर भी दुर्लभ योग का निर्माण हो रहा है। चैत्र पूर्णिमा को मनाई जाने वाली हनुमान जयंती 11 अप्रेल मंगलवार को विशेष योग के साथ मनाई जाएगी।

इस वर्ष रामनवमी भी मंगलवार को आई थी। मंगलवार को हनुमानजी का वार होने से इस दिन आराधना करने वालों को विशेष फल मिलेगा।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस बार हनुमान जयंती पर विशेष योग बन रहे है। खास बात यह है कि इस बार चार साल बाद संकट मोचन की जयंती चंद्रग्रहण से मुक्त मनेगी। चैत्र शुक्ल पक्ष पूर्णिमा 11 अप्रैल को पड़ रही हनुमान जयंती चित्रा नक्षत्र और राज योग के साथ मनाई जाएगी।

साथ ही शुक्र मीन राशि में उच्च का हो गए जिसकी सूर्य के साथ युति रहेगी। द्वितीय स्थान पर मेष राशि का मंगल शुभ फलदायी रहेगा। विशेष योग होने के कारण हनुमान जयंती भक्तों के लिए विशेष फलदायी रहेगी।

विदित हो कि 2013 से लगातार हनुमान जयंती पर चंद्रग्रहण के योग बन रहे थे लेकिन इस बार भ्रदा रहित और चंद्रग्रहण मुक्त रहेगी। इससे पूजा-अर्चना और आराधना में कोई संकट नहीं आएगा।

विशेष संयोगों के कारण इस दिन हनुमानजी की आराधना से श्रद्घालुओं की मनोकामना शीघ्र पूर्ण होगी। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार सूर्य, शनि, राहु के दोषों के निवारण हेतु हनुमान आराधना विशेष मानी जाती है।

पूर्णिमा पर चित्रा नक्षत्र और राजयोग मिलने पर जयंती का आध्यात्मिक प्रभाव बढ़ गया है। इसलिए इस दिन की गई साधना विशेष फलदायी होगी।

हनुमान जयंती Part II

  चैत्र मास की पूर्णिमा को हनुमान जयंती पर्व मनाया जाता है। इस बार ये पर्व 11 अप्रैल मंगलवार को है। चूंकि मंगलवार को हनुमानजी का ही दिन माना जाता है इसलिए इस शुभ योग में यदि कुछ विशेष उपाय किए जाएं तो आपकी हर परेशानी दूर हो सकती है।

 ये उपाय इस प्रकार हैं-

 ऐसे चढाएं हनुमानजी को चोला

हनुमान जयंती (11 अप्रैल) पर हनुमानजी को चोला चढ़ाएं।

 हनुमानजी को चोला चढ़ाने से पहले स्वयं स्नान कर शुद्ध हो जाएं और साफ वस्त्र धारण करें। सिर्फ लाल रंग की धोती पहने तो और भी अच्छा रहेगा। चोला चढ़ाने के लिए चमेली के तेल का उपयोग करें। साथ ही, चोला चढ़ाते समय एक दीपक हनुमानजी के सामने जला कर रख दें। दीपक में भी चमेली के तेल का ही उपयोग करें।

चोला चढ़ाने के बाद हनुमानजी को गुलाब के फूल की माला पहनाएं और केवड़े का इत्र हनुमानजी की मूर्ति के दोनों कंधों पर थोड़ा-थोड़ा छिटक दें। अब एक साबुत पान का पत्ता लें और इसके ऊपर थोड़ा गुड़ व चना रख कर हनुमानजी को भोग लगाएं। भोग लगाने के बाद उसी स्थान पर थोड़ी देर बैठकर तुलसी की माला से नीचे लिखे मंत्र का जप करें। कम से कम 5 माला जप अवश्य करें।

मंत्र- राम रामेति रामेति रमे रामे मनोरमे।

सहस्त्र नाम तत्तुन्यं राम नाम वरानने।

अब हनुमानजी को चढाए गए गुलाब के फूल की माला से एक फूल तोड़ कर, उसे एक लाल कपड़े में लपेटकर अपने धन स्थान यानी तिजोरी में रखें। इससे धन संबंधी समस्या हल होने के योग बनने लगेंगे।

बड़ के पेड़ का उपाय

 मंगलवार की सुबह स्नान करने के बाद बड़ (बरगद) के पेड़ का एक पत्ता तोड़ें और इसे साफ स्वच्छ पानी से धो लें। अब इस पत्ते को कुछ देर हनुमानजी की प्रतिमा के सामने रखें और इसके बाद इस पर केसर से श्रीराम लिखें। अब इस पत्ते को अपने पर्स में रख लें। साल भर आपका पर्स पैसों से भरा रहेगा। अगली होली पर इस पत्ते को किसी नदी में प्रवाहित कर दें और इसी प्रकार से एक और पत्ता अभिमंत्रित कर अपने पर्स में रख लें।

घर में स्थापित करें पारद हनुमान की प्रतिमा 

अपने घर में पारद से निर्मित हनुमानजी की प्रतिमा स्थापित करें। पारद को रसराज कहा जाता है। पारद से बनी हनुमान प्रतिमा की पूजा करने से बिगड़े काम भी बन जाते हैं। पारद से निर्मित हनुमान प्रतिमा को घर में रखने से सभी प्रकार के वास्तु दोष स्वत: ही दूर हो जाते हैं, साथ ही घर का वातावरण भी शुद्ध होता है। प्रतिदिन इसकी पूजा करने से किसी भी प्रकार के तंत्र का असर घर में नहीं होता और न ही साधक पर किसी तंत्र क्रिया का प्रभाव पड़ता है। यदि किसी को पितृदोष हो, तो उसे प्रतिदिन पारद हनुमान प्रतिमा की पूजा करनी चाहिए। इससे पितृदोष समाप्त हो जाता है।

शाम को जलाएं दीपक 

हनुमान जयंती की शाम को समीप स्थित किसी हनुमान मंदिर में जाएं और हनुमानजी की प्रतिमा के सामने एक सरसों के तेल का व एक शुद्ध घी का दीपक जलाएं। इसके बाद वहीं बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ करें। हनुमानजी की कृपा पाने का ये एक अचूक उपाय है। करें राम रक्षा स्त्रोत का पाठ सुबह स्नान आदि करने के बाद किसी हनुमान मंदिर में जाएं और राम रक्षा स्त्रोत का पाठ करें। इसके बाद हनुमानजी को गुड़ और चने का भोग लगाएं। जीवन में यदि कोई समस्या है, तो उसका निवारण करने के लिए प्रार्थना करें।

   🙏🙏🙏

Each of the Day has specific direction assign to it along with specific colours.

Here is the image to highlight what color to wear/carry on what day!!! It is also recommend you start your day by moving on to specific direction i.e. if its Monday, one should always walk few steps in North (North is the direction for Monday). One should wear or Blue color cloth or at least carry blue color piece of cloth for better luck.

Try this suggestion and share your experience via comments.

What color for specific Day By Mystic Solutions.png

%d bloggers like this: