Advertisements

Category: Medicine and Vastu


  • तुलसी का पौधा सबसे अच्छा संयंत्र वास्तु दोष दूर करने के लिए माना जाता है।
  • यदि आपके मुख्य प्रवेश द्वार पर बड़े पेड़ या नकारात्मक ऊर्जा हैं तो एक तुलसी लगाएं
  • बारिश के मौसम में, जब सर्दी, बुखार और डेंगू जैसी बीमारियों के संक्रमण फैलते हैं, इसकी पत्तियों का काढ़ा नियमित रूप से पीना शरीर को इन संक्रमणों से बचाता है। बुखार अधिक होने की स्थिति में मरीज़ को तुलसी की पत्तियों को दालचीनी के पाउडर के साथ आधा लीटर पानी में उबालना चाहिए और उसमें गुड़ और थोड़ा दूध मिलाकर मरीज को पिलाना चाहिए। इससे बुखार की तेजी से कम हो जाता है।
  • तुलसी अगर निमंन मात्रा में फायदकारक है तो हानि भी हो सकती है|
  • तुलसी में हमारे शरीर के खून को पतला करने की क्षमता है। और इसलिए इसे अन्य विरोधी थक्के दवाओं के साथ नहीं लिया जाना चाहिए।
  • एक गमले में एक पौधा तुलसी का तथा एक पौधा काले धतूरे का लगायें। इन दोनों पौधों पर प्रतिदिन स्नान आदि से निवृत होकर शुद्ध जल में थोड़ा सा कच्चा दूध मिलाकर अर्पित करें।  ऐसा करने से व्यक्ति को  ब्रहमा, विष्णु, महेश, इन तीनों की संयुक्त पूजा फल मिलता है।  क्योंकि तुलसी विष्णु प्रिया है,  काला धतूरा शिव रूप है एंव तुलसी की जड़ो में भगवान ब्रहमा का निवास स्थान माना गया है।
  • जो जातक रविवार, संक्रांति, ग्रहण को छोड़कर नित्य “ॐ तुलस्यै नमः॥” मन्त्र का जाप करते हुए सुबह तुलसी पर जल चढ़ाता है, एवं सांय को दीपक जलाता है उसे जीवन के सभी सुखो की प्राप्ति होती है, उसके पाप नष्ट होते है, पुरखो को स्वर्ग में स्थान मिलता है, सन्तान संस्कारी, आज्ञाकारी होती है, उसके घर से सभी संकट कोसो दूर रहते है । 
  •  तुलसी के पत्ते बहुत ही पवित्र माने जाते है । यह हमारे जल एवं भोजन को शुद्ध और पवित्र करते हैं। इसीलिए किसी भी सूर्य या चंद्र ग्रहण के समयजल एवं  भोजन में तुलसी के पत्ते डालें जाते हैं।
  • हमारे धर्म शास्त्रों के अनुसार इंसान की मृत्यु के बाद उस शव के मुख में तुलसी के पत्ते डाले जाते हैं। मान्यता है कि इससे मृतक को मोक्ष की प्राप्ति होती है।
  •  अगर आपको लगता है कि लाख प्रयास के बाद भी आपका व्यापार उन्नति नहीं कर पा रहा है तो आप किसी भी गुरुवार को श्यामा तुलसी के चारो ओर उग आई खर पतवार को किसी पीले वस्त्र में बांधकर अपने व्यापार स्थल में किसी साफ जगह रख दें, व्यापार में गति आ जाएगी । 
  •  किसी भी शुभ मुहूर्त में तुलसी की जड़  लाएं । रविवार या गुरुवार को जब पुष्य नक्षत्र हो तो उस दिन उस जड़ को गंगा जल से धोकर, धूप दीप दिखाकर, तिलक लगाकर पूजा करके पीले कपड़े में लपेटकर अपने दाहिने हाथ में बांध लें इस आसान उपाय से व्यक्ति का तेज बढ़ता है, कार्यों में सफलता की सम्भावना बढ़ जाती है, अधिकारी वर्ग प्रसन्न रहता है।    
  • अगर किसी व्यक्ति की संतान बहुत ज्यादा जिद्दी हो, बड़ो का कहना ना मानती हो तो उसे घर के पूर्व दिशा में रखे तुलसी के पौधे के तीन पत्ते रविवार को छोड़कर प्रतिदिन किसी भी तरह अवश्य ही खिलाएं, सन्तान का व्यवहार सुधरने लगेगा । 
  • ऐसी भी मान्यता है कि यदि पूर्व दिशा में खिड़की के पास तुलसी का पौधा रखा जाए तो भी संतान आज्ञाकारी होती है। 
  • यह भी माना जाता है कि यदि आपकी कन्या का विवाह नहीं हो रहा हो तो कन्या तुलसी के पौधे को घर के दक्षिण-पूर्व में रखकर उसे नियमित रूप से जल अर्पण करें। इससे भी शीघ्र ही योग्य वर की प्राप्ति होती है ।
  •  तुलसी का पौधा किचन के पास रखने से घर के सदस्यों में आपसी प्रेम, सामंजस्य बना रहता है। 
  • नवीन गृह में तुलसी का पौधा, देवता का चित्र, गौमूत्र, गंगाजल, और पानी का कलश लेकर घर के अंदर प्रवेश करना चाहिए । इससे घर में सदैव सुख शांति, प्रसन्नता का वातावरण बना रहता है, घर में धन की कभी भी कमी नहीं रहती है। 
  • घर से निकलने से पूर्व तुलसी के दर्शन करना बहुत ही शुभ एवं सफलता की निशानी माना जाता है। 
  • प्रतिदिन दही के साथ चीनी और तुलसी के पत्तों का सेवन करना बहुत ही शुभ माना गया है। तुलसी के पत्तों का घर से निकलते समय सेवन करने से कार्यों में कोई भी संकट नहीं आते है ।  
  • हिन्दु धर्मशास्त्रों में तुलसी के आठ नाम बताए गए हैं- वृंदा, वृंदावनि, विश्व पूजिता, विश्व पावनी, पुष्पसारा, नन्दिनी, तुलसी और कृष्ण जीवनी। सुबह तुलसी में जल चढ़ाते समय इनका नित्य नाम लेने जातक को जीवन में कोई भी संकट कोई आभाव नहीं रहता है । उसे सभी तरह के भौतिक सुख सुविधाओं की प्राप्ति होती है । 
  •  तुलसी का पत्तों के नित्य सेवन करना बहुत ही पुण्यदायक लाभदायक माना जाता है। लेकिन ध्यान रहे कि उसे दाँतों के बीच चबाना नहीं चाहिए।
Please note our Disclaimer

Rohitt Shah

Vastu Acharya & Master Numerologist

9049410786 OR 7776034447

www.iBlogsAbout.com

www.MantraTantraYantras.com

 

Advertisements

First, I want all of you to see video link:  “Hidden messages in water” has detailed how the energy of space affects water quality and its structure. A few ways to improve quality of water if practiced, can make significant positive changes in one’s health. In Jains there is a most common practice of Chanting Navkar Mantra before and after drinking water. Jains also uses warmed water.

Rohitt Shah

Vastu Acharya & Master Numerologist

9049410786 OR 7776034447

www.iBlogsAbout.com

www.MantraTantraYantras.com

Hidden messages in water Bless Water Blog_Page_1Hidden messages in water Bless Water Blog_Page_2Hidden messages in water Bless Water Blog_Page_3

Visit and subscriber our YouTube channel for regular Tips on Occult science.

Here is the video on Vastu Tips.

Collection of amazing tried and tested Vastu Tips for you to use. Please note that Tips will only work if you are able to locate the zone correctly as well as the zone should be balanced. Also ensure that no anti element is present in that particular zone.
For further help you can reach out to us.

 

#Vastutip; #Vasturemedy; #VastuSolution; #Mahavastuexpert

Vastu Tip: Inverter in NE is BIG NO as it causes many Mental issue, inability to understand, aggressive behaviours, react to non-sense things.

Ideal Zone: There are few zones to keep inverter but first choice should be South-East (SE) Zone.

Rohit Shah (Vastu Acharya – Numero Vastu Guru)

Mahavastu, Numerology, Fengshui, Bazi and Lal Kitab Consultant

Our Online presences and links to follow US

Vastu Tip Inverter in NE

 

NOTE: One need to ensure that they locate the direction accurately for tips to work. We work on 16 zones (directions) so make sure you plot the direction accurately.

16 Zones (directions): North, North of NE, North-East(NE), East of NE, East, East of SE, South-East (SE), South of SE, South, South of SW, South-West (SW), West of SW, West, West of NW, North-West (NW), North of NW. Each zone carries its own attributes, colours, patterns and associations with 5 elements (Water, wood, Fire, Earth and Space).

Other Useful Vastu Tips /articles:

Vastu Tip: Vastu Facts: Must have Pics for your premise

Vastu Tip: Vastu Facts: WSW Direction

Vastu Tip: Vastu Facts: SW Direction

Vastu Tip: Ayurveda Dosha and Vastu

 

Disclaimer

 

Vatu Tip Immunity By Mystic Solutions

North of North-East Zone is the zone of Immunity. Positive energy of this zone ensure strong immunity, for sick person this zone ensures faster recovery. One should always have Lord Dhanvantri photo in this zone. Follow above given Vastu Tips for this zone.

Rohit Shah (Vastu Acharya – Numero Vastu Guru)

Mahavastu, Numerology, Fengshui, Bazi and Lal Kitab Consultant

Our Online presences and links to follow US

NOTE: One need to ensure that they locate the direction accurately for tips to work. We work on 16 zones (directions) so make sure you plot the direction accurately.

16 Zones (directions): North, North of NE, North-East(NE), East of NE, East, East of SE, South-East (SE), South of SE, South, South of SW, South-West (SW), West of SW, West, West of NW, North-West (NW), North of NW. Each zone carries its own attributes, colours, patterns and associations with 5 elements (Water, wood, Fire, Earth and Space).

Other Useful Vastu Tips /articles:

Vastu Tip: Vastu Facts: Must have Pics for your premise

Vastu Tip: Vastu Facts: WSW Direction

Vastu Tip: Vastu Facts: SW Direction

Vastu Tip: Ayurveda Dosha and Vastu

 

Disclaimer

For healthy and better sleep Ancient Hindu scriptures have listed few rules that one should follow to have better sleep.

This Video captures some of these rules to help.

Bedtime Rules as per Purana

 

%d bloggers like this: