Advertisements

Category: Other Useful Items…


Happy Dhanterash

Mantra:

!!!Aum Namo Bhagvatey Vaasudevaaya
Dhanvantraiye ,Amrita kalasa hastaya
Sarva aamaya vinasanaya
Trailokanaathaya Shree Mahavishnave Shree Dhanavantri svarup shree shree shree aushadhchakra narayan namaha !!!

ॐ नमो भगवते महासुदर्शनाय वासुदेवाय धन्वंतराये:
अमृतकलश हस्ताय सर्व भयविनाशाय सर्व रोगनिवारणाय
त्रिलोकपथाय त्रिलोकनाथाय श्री महाविष्णुस्वरूप
श्री धनवंतरी स्वरूप श्री श्री श्री औषधचक्र नारायणाय नमः॥

Advertisements

iBaZi: Case Study Samples

To understand below listed case studies please read my earlier blogs on iBaZi:

BaZi – Chinese Astrology

BaZi Profile: What main Profile Means

Best Gift to Your Child

bill-gates-main-bazi-profile

Bill Gates

amancio-ortega-main-bazi-profile

jeff-bezos-amazon-main-bazi-profile

Jeff Bezos of Amazon

mukesh-ambani-main-bazi-profile

Mukesh Ambani

dilip-shanghvi-main-bazi-profile

Dilip Sanghvi

amitabh-bachchan-main-bazi-profile

Amitabh Bachchan

azim-premji-main-bazi-profile

Azim Premji

narendra-modi-main-bazi-profile

Narendra Modi

shree-rajneesh-main-bazi-profile

Shree Rajneesh

apj-abdul-kalam-main-bazi-profile

APJ Abdul Kalam

Many of us have heard of Rudraksha bead and its benefits. Many are wearing Rudraksha as well as but do not know the association of if faced Rudraksha. Here is the tabel that gives basic relationship between Planets and Rudraksha Faced as well as associate deity, Mantras one should chant as well as PanchAkshari Mantra.

Do read the Note Section is it gives scientific weightage on Rudraksha.  At bottom of this page.. there is a list of Research articles on Rudraksha.

Rudraksh The Mystery Bead by Mystic Solutions

Disclaimer

A list of Research paper/articles:

  • “A note on rudraksha, Elaeocarpus sphaericus (Gaertn.) K. Schum” by (? – Krishnamurthy, T.) (1964), Indian Forester 90, 11, 774-776.
  • “Action of a fraction of Elaeocarpus Ganitrus on Muscles” – Bhattacharya S.S. Sarkar, P.R. G. Kar, (Medical College Calcutta)
  • “Anticonvulsant activity of the mixed fatty acids of Elaeocarpus ganitrus roxb. (Rudraksh)” by Dasgupta A, Agarwal SS, Basu DK., Indian J Physiol Pharmacol. 1984 Jul-Sep; 28(3) : 245-6.
  • “Anti-inflammatory activity of Elaeocarpus sphaericus fruits extracts in rats” by R. K. Singh and B. L. Pandey Department of Pharmacology, Institute of Medical Sciences, Banaras hindu University, Varanasi-221 005, India
  • “Antimicrobial activity of Elaeocarpus sphaericus” by Singh RK, Nath G., Department of Pharmacology, Institute of Medical Sciences, Banaras Hindu University, Varanasi – 221 005, India., (Phytother Res. 1999 Aug;13(5):448-50)
  • “Celled stone of Elaeocarpus ganitrus Roxb” – by Oza. GM, Current Science, 41 (7): 269, 1972
  • “Further observations with Elaeocarpus Ganitrus on Normal and Hypodynamic Heart” – by Sarkar. P. K., Bhattacharya S.S. and Sengupta, Department of Pharmacology, Medical College Calcutta
  • “Isolation of microsatellite loci from a rainforest tree, Elaeocarpus grandis (Elaeocarpaceae), and amplification across closely related taxa” – R. C Jones, J McNally, M Rossetto (Molecular Ecology Notes, Vol. 2, Issue 2, Page 179, June 2002)
  • “More about Rudraksha” by Joyce Diamanti, 2001, The Bead Society of Greater Washington Newsletter, 18(2): 6.
  • “Notes on The Botanical Identity of Beads Found Under The Name: Rudraksha” – by Yelne, M. B., biorhythm, AYU. academy series, 44, PP. 39-44., 1995
  • “Pharmacological activity of Elaeocarpus sphaericus” by R. K. Singh, S. B. Acharya, Dr S. K. Bhattacharya, Department of Pharmacology, Institute of Medical Sciences, Banaras Hindu University, Varanasi – 221 005, India
  • “Pharmacological investigations on Elaeocarpus ganitrus.” by Bhattacharya SK, Debnath PK, Pandey VB, Sanyal AK., Planta Med. 1975 Oct;28(2):174-7.
  • “Raksha Rudraksha Chandra Marthandam” (in Nagara-Lipi, i. e. Tamil) – by Sri Mudigonda Nagalinga Sastry garu, (This book explains the greatness and power of Rudraksa and its wearing on one”s body)
  • “Regeneration status and population structure of Rudraksh (Elaeocarpus ganitrus Roxb.) in relation to cultural disturbances in tropical wet evergreen forest of Arunachal Pradesh” – Bhuyan, Putul; Khan, M. L. and Tripathi, R. S. 2002, Current Science, 83(11): 1391-1394. Department of Forestry, North-Eastern Regional Institute of Science and Technology, Nirjuli 791109, India; Department of Botany, North Eastern Hill University, Shillong 793022, India. [biological conservation, density, population structure]
  • “Rudraksa Properties and Biomedical Implications” by Subas Rai, rep. 2000, 197p.
  • “Rudraksa: Mahatwa ra Kheti Prabidhi (Dhankuta, Pakhribas Krishi Kendra)” by Chet Nath Kanel (is a fine introduction to one of the most religiously important plants in Nepal and its cultivation practices. The author claims that Rudraksa has also assumed economic, medicinal, aesthetic and environmental importance before describing its cultivation in a few hilly districts in east Nepal. The last four chapters detail the cultivation techniques, including ways to tackle diseases and post-harvest procedures before the rudraksas reach the market)
  • “Rudraksam” by N. Swarnalatha (Journal of Sukrtindra Oriental Research Institute, Vol. II, No. 1, Oct. 2000)
  • “Rudraksha – A Religious Tree and Its Economic Importance” – by Mitra, B.Das Gupta, R.Sur, Ethnobotany in India, Scientific Publishers, Jodhpur, 1992.
  • “Rudraksha – Not Just a Spiritual Symbol But Also a Medicinal Remedy” – Dennis, T. J. (1993a), Sachitra Ayurved 46, 2, 142., (on Elaeocarpus ganitrus Roxb)
  • “Rudraksha” by Dr. Vanamala Parthasarathy, Feb / Mar 1993, (Mr. Vanamala is a Reader in ancient Indian history and culture of the Anathacharya Indological Research Institute, Bombay)
  • “Scientific appraisal of rudraksha (Elaeocarpus ganitrus): chemical and pharmacological studies” – Pandey, V. B. and S. K. Bhattacharya (1985), JREIM 4, 1/2, 47-50. (on rudraksa, Elaeocarpus sphaericus (Gaertn. ) K. Schum E. ganitrus Roxb.)
  • “Significance of Rudraksha” (in Nepali language) – by Pujya Gurudev Shreesadhak Satyam (Swami Akhandananda Saraswati, Sanad Kumar Adhikari)

Rohitt Shah (Vastu Acharya – Numero Vastu Guru)

Mahavastu, Numerology, Bazi and Lal Kitab Consultant

Our Online presences and links to follow US

NOTE: One need to ensure that they locate the direction accurately for tips to work. We work on 16 zones (directions) so make sure you plot the direction accurately.

16 Zones (directions): North, North of NE, North-East(NE), East of NE East, East of SE, South-East (SE), South of SE, South, South of SW, South-West (SW), West of SW, West, West of NW, North-West (NW), North of NW. Each zone carries its own attributes, colours, patterns and associations with 5 elements (Water, wood, Fire, Earth and Space).

Other Useful Numero Tips /articles:

Numerology Tip: Numerology Tip: Born from year 2000 onwards; You must Read

Numerology Tip: Your Birthdate and Numerology

Numerology Tip: What is Numerology

Numerology Tip: What Number says about your Profession!!!

Numerology Tip: What Number says about you!!!

Numerology: Will name change benefit the movie #Padmaavat?

Numerology: Number 18 and its Impact

Testimony – Numerology and Vastu Consultation

Disclaimer

जानिए आपका कौन सा चक्र बिगड़ा है और उसे कैसे ठीक करे: –

7-chakras-ida-pingala-20450616

(1) मूलाधार चक्र- गुदा और लिंग के बीच चार पंखुरियों वाला ‘आधार चक्र’ है।आधार चक्र का ही एक दूसरा नाम मूलाधार चक्र भी है। इसके बिगड़ने से वीरता,धन,समृधि ,आत्मबल,शारीरिक बल,रोजगार कर्मशीलता,घाटा,असफलता रक्त एवं हड्डी के रोग,कमर व पीठ में दर्द ,आत्महत्या के बिचार,डिप्रेशन,केंसर अ।दि होता है।

(2) स्वाधिष्ठान चक्र- इसके बाद स्वाधिष्ठान चक्र लिंग मूल में है ।उसकी छ:पंखुरियाँ हैं।इसके बिगड़ने पर क्रूरता,गर्व, आलस्य, प्रमाद, अवज्ञा, नपुंसकता,बाँझपन ,मंद्बुधिता,मूत्राशय और गर्भाशय के रोग ,अध्यात्मिक सिद्धी में बाधा बैभव के आनंद में कमी अदि होता है।

(3) मणिपूर चक्र- नाभि में दस दल वाला मणिपूर चक्रहै। इसके इसके बिगड़ने पर तृष्णा, ईष्र्या, चुगली, लज्जा, भय, घृणा, मोह, अधूरी सफलता,गुस्सा,चिंचिरापन, नशाखोरी,तनाव ,शंकलुप्रबिती,कई तरह की बिमारिया,दवावो का काम न करना,अज्ञातभय,चहरेक।तेजगायब ,धोखाधड़ी,डिप्रेशन,उग्रता
हिंशा,दुश्मनी,अपयश,अपमान,आलोचना,बदले की भावना ,एसिडिटी ,ब्लडप्रेशर,शुगर,थाईरायेड,सिर एवं शारीर के दर्द,किडनी ,लीवर ,केलोस्ट्राल,खून का रोग आदि इसके बिगड़ने का मतलब जिंदगी का बिगड़ जाना ।

(4) अनाहत चक्र- हृदय स्थान में अनाहत चक्र है । यह बारह पंखरियों वाला है। इसके बिगड़ने पर लिप्सा, कपट, तोड़-फोड़, कुतर्क, चिन्ता,नफरत ,प्रेम में असफलता ,प्यार में धोखा ,अकेलापन ,अपमान, मोह, दम्भ, अपनेपन में कमी ,मन में उदासी, जीवन में बिरानगी ,सबकुछ होते हुए भी बेचैनी ,छाती में दर्द ,साँस लेने में दिक्कत,सुख का अभाव,ह्रदय व फेफड़े के रोग,केलोस्ट्राल में बढ़ोतरी आदि।

(5) विशुद्ध चक्र –कण्ठ में विशुद्धख्य चक्र यह सरस्वती का स्थान है।यह सोलह पंखुरियों वाला है।यहाँ सोलह कलाएँ सोलह विभूतियाँ विद्यमान है, इसके बिगड़ने पर वाणी दोष,अभिब्यक्तिमें कमी,गले,नाक,कान,दात, थाईरायेड, आत्मजागरण में बाधा आती है।

(6) आज्ञा चक्र – भू्रमध्य में आज्ञा चक्र है, यहाँ उद्गीय, हूँ, फट, विषद, स्वधा स्वहा, सप्त स्वर आदि का निवास है । इसके बिगड़ने पर एकाग्रता,जीने की चाह,निर्णय की सक्ति, मानसिक सक्ति,सफलता की राह में अडचने आदि इसके बिगड़ने मतलब सबकुछ बिगड़ जाने का खतरा ।

(7) सहस्रार चक्र -सहस्रार की स्थिति मस्तिष्क के मध्य भाग में है। शरीर संरचना में इस स्थान पर अनेक महत्वपूर्ण ग्रंथियों से सम्बन्ध रैटिकुलर एक्टिवेटिंग सिस्टम का अस्तित्व है । वहाँ से जैवीय विद्युत का स्वयंभू प्रवाह उभरता है ।इसके बिगड़ने पर मानसिक बीमारी, अध्यात्मिकता का आभाव,भाग्य का साथ न देना अदि ।

उपाय

अभिमंत्रित 7 चक्र ब्रेसलेट धारण किजये।

चक्रो को सही करने के लिए चक्र के बीज मंत्र के जाप करे।

नीचे उपाय के पिक्चर्स ओर मंत्र का लिंक दिया गया है।
7 Chakra Bracelet। 7 चक्र ब्रेसलेट


Chakra Beej Mantra। चक्र बीज मंत्र:

7 Chakra IMage with Beej Mantra

7 Chakra Beej Mantras:

Chakra-beej-mantras-the-sounds-of-the-chakras

Chakra Chanting Video

वास्तु और 7 चक्

अगर घर मे वास्तु दोष रहेगा तो उसकी वजह से भी चक्ररा इम्बलनसे हो सकते है।

नंबर्स और चक्र

आपकी जन्म तारीख में मिसिंग नंबर्स का भी नेगेटिव प्रभाव चक्रो पे हो सकता है।

आप अपने घर में #शिवलिंग स्थापित करने के बारे में सोच रहे हैं तो रखें कुछ बातों का ध्यान, फायदे में रहेंगे!
भगवन शिव के बारे में तो आप जानते ही हैं, वह बहुत ही दयालु भी हैं और क्रोधी स्वाभाव के भी हैं। जो उन्हें सच्चे मन से याद करता है, उसकी पुकार वह तुरंत सुन लेते हैं। अगर आपने भी अपने घर में #शिवलिंग स्थापित किया हुआ है या करने के बारे में सोच रहे हैं, तो कुछ बातों का ध्यान रखना बहुत ही जरुरी है। आप तो जानते ही हैं कि भगवन शिव जब क्रोधित हो जाते हैं, तो वह पूरी पृथ्वी का विनाश करने की क्षमता रखते हैं। ऐसे में कोई ऐसा काम ना करें या कोई ऐसी चीज चढ़ावे के रूप में ना चढ़ाएँ जो उन्हें पसंद ना हो। आज हम आपको कुछ ऐसी बातें बताने जा रहे हैं, जो शिवलिंग के साथ नहीं करनी चाहिए।

शिवलिंग के साथ ऐसा भूलकर भी ना करें…..

कोने में ना रखें:-

शिवलिंग अगर घर में स्थापित कर रहे हैं तो उसे भूलकर भी कोने में या किसी ऐसी जगह ना रखें जहाँ आप उसकी पूजा ना कर पायें। ऐसा करने से भगवन शिव क्रोधित हो जाते हैं, और उनके क्रोध से बचना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन होता है।

हल्दी ना चढ़ाएँ:-

जैसा की सभी जानते हैं हल्दी का इस्तेमाल औरतें अपनी खूबसूरती को बढ़ाने के लिए करती हैं। भगवान शिव को खुबसूरत दिखने की कोई इच्छा नहीं है, भगवन शिव एक पुरुष देवता हैं, इसलिए उन्हें हल्दी बिलकुल भी पसंद नहीं है। तो याद रखें उन्हें कभी भी हल्दी ना चढ़ाएँ।

सिंदूर के दूरी रखें:-

आप तो जानते ही हैं कि सिंदूर महिलाएँ लगाती हैं ताकि उनके पति की आयु लम्बी हो सके, और भगवन शिव विनाश के देवता हैं। इसलिए उन्हें सिंदूर बिलकुल भी पसंद नहीं है, तो इस बात का ध्यान रखें कि उन्हें भूलकर भी सिंदूर ना चढ़ाएँ।

स्थान ना बदलें:-

शिवलिंग का स्थान ना बदलें, अगर किन्ही विपरीत कारणों से ऐसा करना पड़ रहा है तो इस बात का ध्यान रखें की शिवलिंग को हटाने से पहले उसे गंगाजल और ठंढे दूध से स्नान करायें फिर उसकी जगह को बदलें। ऐसा ना करने से भगवन शिव क्रोधित हो जाते हैं।

बिना किसी बर्तन के दूध ना चढ़ाएँ:-

कुछ लोग होते हैं जो सोचते हैं कि सीधे दुकान से पैकेट वाला दूध ख़रीदा और चढ़ा दिया, ऐसा करने से बचना चाहिए। बिना किसी बर्तन के दूध कभी भी नहीं चढ़ाना चाहिए। दूध चढ़ाते वक़्त एक बात का और ध्यान रखें दूध बिलकुल ठंढा होना चाहिए, भले ही बाहर कोई भी मौसम हो।

शिवलिंग की बनावट का रखें ध्यान:-

शिवलिंग स्थापित करने से पहले इस बात का अवश्य ध्यान रखें कि शिवलिंग सोने, चाँदी या पीतल का बना होना चाहिए। एक बात और ध्यान रखनी चाहिए कि बिना साँप वाला शिवलिंग भूलकर भी घर नहीं लाना चाहिए।

पानी का रखें ख़ास ध्यान:-

आप जब भी किसी शिव मंदिर में जाते होंगे तो आपने देखा होगा कि शिवलिंग के ऊपर एक पानी से भरा पात्र लटका रहता है, जिससे हर समय पानी टपकता रहता है। इसलिए जब आप भी अपने घर पर शिवलिंग स्थापित करें तो पानी की व्यवस्था ठीक तरह से करें। दिन हो या रात हो हर समय शिवलिंग के ऊपर पानी गिरना चाहिए।

शिवलिंग को अकेले ना रखें:-

जब आप अपने घर पर शिवलिंग स्थापित कर रहे हों तो इस बात का खासतौर पर ध्यान रखें कि शिवलिंग को कभी भी अकेले ना रखें। इसके साथ माँ पार्वती और गणेश की मूर्तियाँ भी रखें।

चन्दन का टिका लगायें:-

हर रोज स्नान करने के बाद शिवलिंग पर चन्दन का टिका लगायें, ऐसा माना जाता है कि इससे शिवलिंग पवित्र और ठंढा रहता है।

कभी ना चढ़ाएँ नारियल पानी:-

आपको इस बात का हमेशा ध्यान रखना होगा कि शिवलिंग पर कभी भी नारियल पानी नहीं चढ़ाना है। ऐसा करने से भगवान शिव क्रोधित हो सकते हैं। हालांकि आप इसकी जगह पर कच्चा नारियल चढ़ा सकते हैं।

कभी न चढ़ाएँ तुलसी की पत्ती:-

शिवलिंग पर भूलकर भी तुलसी की पत्तियाँ नहीं चढ़ानी चाहिए, शिवलिंग पर हमेशा बेलपत्र ही चढ़ाना चाहिए। बेलपत्र बहुत ही शुभ माना जाता है।

बेल चढ़ाएँ:-

बेल भगवन शिव को बहुत पसंद है, ऐसा माना जाता है कि यह फल चढ़ाने से इंसान की उम्र लम्बी होती है। इसलिए आप भी सुबह स्नान करने के बाद बेल के फल को भगवन शिव को चढ़ा सकते हैं, इससे आपकी उम्र और लम्बी हो जाएगी।

पंचामृत चढ़ाएँ:-

कोई भी पूजा शुरू करने से पहले शिवलिंग पर पंचामृत चढ़ाएँ। पंचामृत दूध, गंगाजल और चीनी जैसे पाँच चीजों से मिलाकर बनाया जाता है।

केवल सफ़ेद फूल चढ़ाएँ:-

जब बात फूलों की हो तो हमेशा शिवलिंग पर सफ़ेद फूल ही चढ़ाने चाहिए, यह कहा जाता है कि सफ़ेद फूल भगवान शिव को बहुत ज्यादा पसंद हैं। यह भी कहा जाता है कि भगवन शिव को भूलकर भी केवड़ा और चंपा के फूल नहीं चढ़ाने चाहिए। ऐसा माना जाता है कि इन फूलों को भगवन शिव ने अभिशाप दिया था।

अभिषेक:-

जब भी शिवलिंग का अभिषेक करें इस बात का ध्यान रखें कि हमेशा शिवलिंग का अभिषेक चाँदी, सोने या पीतल से बने नाग योनी जैसे किसी पात्र में करना चाहिए। अभिषेक करते समय इस बात का भी ध्यान रखें की अभिषेक कभी भी स्टील के स्टैंड में नहीं करना चाहिए।

शिवलिंग पर चढ़ाया कभी ना खाएं:-

यह कहा जाता है कि जो भी शिवलिंग पर चढ़ाएँ उसे खुद कभी भी ना खाएं, हमेशा शिवलिंग पर चढ़ाया हुआ दूसरों को बाँट देना चाहिए। जो शिवलिंग पर चढ़ाये हुए को खुद ही खा लेते हैं, ऐसा माना जाता है कि उनका भाग्य बुरा हो जाता है।

सौन्दर्य की कोई भी वस्तु ना चढ़ाएँ:-

सिंदूर की तरह ही भूलकर कोई भी सौन्दर्य प्रसाधन की वस्तु को शिवलिंग पर नहीं चढ़ाना चाहिए। ऐसी चीजें केवल आप माँ पार्वती की मूर्ति पर चढ़ा सकते हैं।

!!ॐ नम: शिवाय!!

This is the numerology report you will get when you order your personal Numerology report. Yes, report is big but very simple and easy to follow. Remedies are very easy and will not take more than 10 to 15 minutes of your time. Remedies are very simple but very effective if followed daily with full faith.

Order yours and start achieving never seen before results. Numbers will bring you greater and faster success.

Numerology Tip: Why Name Correction; What’s in a Name !!!

Let the number change your Destiny

Numerology Personal Report Contents Sample By Mystic Solutions

Rohitt Shah

Vastu Achary, Master Numerologis and Lal Kitab – iBazi Consultant.

WhatsApp/Call: +7776034447 OR 9049410786

eMail: MysticValues@gmail.com

%d bloggers like this: